मां बनने के बाद टेनिस कोर्ट पर उतरी सानिया ने जीता पहला खिताब

भारत की दिग्गज टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने दो साल बाद कोर्ट पर वापसी करते हुए होबार्ट इंटरनेशनल टूर्नामेंट (Hobart International Tennis Tournament) का महिला डबल्स खिताब जीत लिया है। 33 साल की सानिया का पूरे टूर्नामेंट के दौरान अपनी यूक्रेनी साथी नादिया किचेनोक के साथ शानदार प्रदर्शन जारी रहा। यह सानिया का 42वां डब्ल्यूटीए डबल्स खिताब है, जबकि मां बनने के बाद उनका पहला खिताब है।

फाइनल में चीनी जोड़ी को हराया

शनिवार को फाइनल मुकाबले में इंडो-यूक्रेनी (सानिया-नादिया) जोड़ी ने दूसरी वरीयता प्राप्त झांग शुइ और पेंग शुइ की चीनी जोड़ी को 6-4, 6-4 से शिकस्त दी। यह मुकाबला एक घंटे 21 मिनट तक चला। सानिया-नादिया की जोड़ी ने स्लोवेनियाई-चेक जोड़ी तमारा जिदानसेक और मैरी बुजकोवा को शुरुआती संघर्ष के बाद 7-6 (3), 6-2 से मात देकर फाइनल में जगह बनाई थी।

सानिया ऑस्ट्रेलिया ओपन खेलेंगी

सानिया इसी महीने होने वाले साल के पहले ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट ऑस्ट्रेलियन ओपन में अमेरिका के राजीव राम के साथ मिक्स्ड डबल्स में भी हिस्सा लेंगी। यह टूर्नामेंट 20 जनवरी से 2 फरवरी के बीच मेलबर्न में खेला जाएगा। दिसंबर में सानिया को भारत की फेड कप टीम में शामिल किया गया था। यह टूर्नामेंट अप्रैल महीने में हंगरी में खेला जाएगा। सानिया ने पिछली बार 2016 में फेड कप खेला था।

सानिया ने अक्टूबर 2017 में पिछला टूर्नामेंट खेला था

छह बार की ग्रैंड स्लैम विजेता सानिया 91 हफ्तों तक डबल्स रैंकिंग में नंबर-1 खिलाड़ी रहीं हैं। उन्होंने आखिरी टूर्नामेंट 2017 में खेला था। तब वे चाइना ओपन के सेमीफाइनल में हारकर बाहर हो गईं थीं। इस भारतीय खिलाड़ी की सर्वश्रेष्ठ सिंगल रैंकिंग 27 है, जो उन्होंने 2007 में हासिल की थी। उनका निकाह 12 अप्रैल 2010 को हैदराबाद में पाकिस्तानी क्रिकेटर शोएब मलिक से हुआ था। अक्टूबर 2018 में सानिया ने बेटे इजहान को जन्म दिया था। इसके बाद से ही वे टेनिस कोर्ट से दूर थीं।