रंगारंग कार्यक्रम के साथ शुरू हुआ जयपुर लिटरेचल फेस्टिवल

जयपुर लिटरेचल फेस्टिवल का मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने आज शुभारंभ किया। उन्होंने कहा कि 18 साल पहले जब इसकी शुरूआत हुई थी तब राजस्थान में मैं ही मुख्यमंत्री था। इस उत्सव में देश दुनिया के साहित्यकार आते हैं। यह राजस्थान की शान है। यहां साहित्य व संस्कृति पर होने वाली चर्चाओं से नई पीढ़ी को प्रेरणा मिलेगी। साहित्य प्रेमी जिन्हें पढ़ते आए हैं उन्हें वे यहां देख भी सकेंगे।

जयपुर की शान है यह फेस्टिवल – मुख्यमंत्री गहलोत

मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा कि इस साहित्य महाकुंभ ने 12 साल का सफर तय कर लिया है। यह 13 वां जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल मनाया जा रहा है। बहुत शानदार तरीके से नमिता गोखले, संजॉय राय और इनके दोस्तों ने मिलकर इस फेस्टिवल राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलवाई। जयपुर और राजस्थान की शान है यह फेस्टिवल। जिसकी दुनियां में चर्चा होती है। इसके आयोजन का इंतेजार किया जाता है। देश विदेश के तमाम इंटरलेक्चुअल साहित्यकार यह सोचकर की एक अवसर आएगा तब खुलकर अपने मन की बात कर सकेंगे। मन की बात भी आवश्यक है और काम की बात भी आवश्यक है। सीएम ने कहा कि जेएलएफ में अब तक पांच हजार से ज्यादा विख्यात वक्ता और 30 लाख से ज्यादा साहित्य प्रेमी शामिल हो चुके है। सीएम ने कहा कि फेस्टिवल का इस दृष्टि से भी उपयोग है कि जो पुस्तक प्रेमी अपने साहित्यकारों को आज तक पढ़ते आए है। उन्हें वे यहां रुबरु देख व सुन सकते है।

रंगारंग कार्यक्रम के साथ हुई शुरुआत

साहित्य उत्सव का वेन्यू इस बार राजस्थानी रंगों में नजर आया। फेस्टिवल की शुरुआत रंगारंग कार्यक्रम के साथ हुई। जेएलएफ में इस बार प्रदेश की ऐतिहासिक परम्परा, विरासत से लेकर ग्लोबलिज्म का मिश्रण होटल डिग्गी पैलेस में देखने को मिल रहा है। फेस्टिवल में इस बार 550 से ज्यादा स्पीकर्स देश-दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से शामिल हो रहे हैं। जहां ग्लोबल एंवायरमेंट, पॉलिटिक्स, एंटरटेनमेंट से लेकर कई मुद्दों पर बातें होंगी। फेस्टिवल के डेकोरेशन की थीम राजस्थानी रंग, परंपराएं और पर्व-त्यौहार पर आधारित है। फ्रंट लॉन, चारबाग, मुगल टेंट, बैठक और संवाद में ब्लॉक प्रिंट से स्पेशल डेकोरेशन की गई है। जिनमें फ्लोरल मोटिफ बेस्ड डिजाइन होंगे।

सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त

फेस्टिवल में आने वाले लाखों विजिटर्स की सुरक्षा के लिहाज से फेस्टिवल के एंट्रेंस गेट पर फेस डिटेक्शन सिस्टम लगाए गए है। फेस्टिवल वेन्यू पर तीन लेवल पर सेफ्टी अरेंजमेंट रखे गए हैं। पहली सेफ्टी लेयर में 300 से 500 पुलिसकर्मी और ऑफिसर्स तैनात किए गए जो वेन्यू के अंदर और बाहर दोनों जगह पर होंगे। दूसरी सेफ्टी लेयर में प्राइवेट सिक्योरिटी होगी। थर्ड लेयर में इंटेलीजेंस होगी इसमें आर्मी इंटेलीजेंस, सीआईडी के अलावा दूसरी सिक्योरिटी एंजेसियों की मदद ली जा रही है।

स्पॉट रजिस्ट्रेशन की फीस बढ़ाई

जनरल पास के लिए फ्री ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन बंद हो चुके हैं। ऐसे में 23, 24 और 27 यानी वीक डेज के लिए ऑन द स्पॉट रजिस्ट्रेशन की फीस इस बार 500 रुपए प्रति व्यक्ति होगी। जो पिछले साल 300 रुपए थी। वहीं 25 और 26 यानी वीकेंड पर प्रति व्यक्ति टिकट की दर 300 रुपए बढ़ाकर 800 रुपए कर दी गई है।